साइकिल से पिता को एक हजार किमी लाने वाली “ज्योति” को “मैथिली सम्मान” से नवाजेगा पूर्वा सांस्कृतिक मंच -सुभाष झा

उत्तरप्रदेश उत्तराखण्ड

देहरादून (उत्तराखंड)- अपने लाचार पिता को साइकिल से बिहार लाने वाली 15 वर्षीय “ज्योति” को “श्रवण कुमार” की उपाधि से विभूषित कर सम्मानित किया जाएगा।
उक्त जानकारी देते हुए पूर्वा सांस्कृतिक मंच के संस्थापक महासचिव सुभाष झा ने बताया कि पूर्वा सांस्कृतिक मंच इस वर्ष से मिथिलेश्वरी जगत जननी सीता के नाम से “मैथिली सम्मान” की शुरुआत, लाचार पिता को हजार किमी से ज्यादा साईकिल के कैरियर पर लादकर घर पहुंचाने वाली ज्योति कुमारी से करेगी!                                                                                                      ज्योति कुमारी को यह सम्मान आने वाले बसंत पंचमी (सरस्वती पूजा) को देहरादून में किया जायेगा!
ज्ञात हो “पूर्वा सांस्कृतिक मंच” पूरब के तमाम संस्कृतियों, परंपराओं, पारंपरिक – सांस्कृतिक धरोहरों, पूरबिया जीवन मूल्यों, विभूतियों, बोलियों, भाषाओं, रहन-सहन, लोक संस्कृतियों के पौराणिक चीजों, गायन शैलीयों, खान-पान आदि को संरक्षित व प्रचारित प्रसारित करने का कार्य करती है! तथा विभिन्न क्षेत्रों के मेधावी पूरबियों को विभिन्न माध्यमों से प्रोत्साहित करने का कार्य करती है!
इससे पहले भी मंच डा० “राजेन्द्र प्रसाद स्मृति सम्मान” “शारदा सम्मान” और “मदन मोहन मालवीय सम्मान” हर वर्ष दिया करती है!
यह संस्था विगत दस वर्षों से पूर्वी उत्तर प्रदेश, बिहार, झारखंड मूल के लोगों को लेकर कार्य करती है!
इस वर्ष से मंच ने नेपाल (मधेशी) मारिशस, नीदरलैंड, सूरीनाम, त्रिनिदाद… आदि देशों के पूरबियों से सांस्कृतिक संवाद स्थापित करने की दिशा पहल करने शुरूआत कर चुकी है!
मंच के संस्थापक सुभाष झा का कहना है हमारी संस्कृति ही हमारी विरासत है यही हमारे के तारतम्य को बनाये रखती है! हर समाज और उस व्यक्ति की पहचान उसकी संस्कृति है!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *