महिला स्वयं सहायता समूहों द्वारा तैयार वस्तुओं को बाजार उपलब्ध कराएगी “अनुरागिनी”- गिरीश गुप्ता, अध्यक्ष, नगर पालिका परिषद, जालौन

उत्तरप्रदेश उत्तराखण्ड

जालौन/उत्तर प्रदेश- देश को आत्मनिर्भर बनाने में महिला स्व-सहायता समूहों की महत्वपूर्ण भूमिका है।स्व-सहायता समूहों की महिलाएं अपने नगर क्षेत्र की आवश्यकताओं के अनुसार स्थानीय वस्तुओं का निर्माण करें। उन्हें बाजार उपलब्ध कराने में अनुरागिनी संस्था मदद करेगी।

उपरोक्त विचार नगर पालिका परिषद जालौन के अध्यक्ष गिरीश कुमार गुप्ता ने जिला नगरीय विकास अभिकरण डूडा के सहयोग से अनुरागिनी संस्था द्वारा नगर पालिका परिषद के सभागार में आयोजित स्वयं सहायता समूह के दो दिवसीय प्रशिक्षण कार्यक्रम के उद्घाटन अवसर पर व्यक्त किए।

राष्ट्रीय शहरी आजीविका मिशन जालौन के जिला प्रबंधक विजय सिंह गौतम ने कहा कि स्वयं सहायता समूहों को गठन के तीन माह तक सफल संचालन के बाद 10 हजार रुपए रिवोल्विंग फंड दिया जा रहा है। इसके तहत १० स्वयं सहायता समूहों का एक एरिया लेवल फेडरेशन भी जालौन नगर में बना है,जिसकी महादेवी कुशवाहा अध्यक्ष है जिसके अन्तर्गत आंतरिक लेन-देन (क्षमता) विकास के लिए 50 हजार रुपये रिवोल्विंग फंड दिया गया है।

अनुरागिनी संस्था के अध्यक्ष डॉ प्रवीण सिंह जादौन ने कहा कि राष्ट्रीय शहरी आजीविका मिशन के अंतर्गत आज जालौन नगर के तीन स्वयं सहायता समूह से जुड़ी महिलाओं को दो दिवसीय क्षमता वृद्धि प्रशिक्षण में उनको समूह संचालन के पंच सूत्र वित्तीय साक्षरता स्वास्थ्य कोरिना महामारी से बचाव आदि जानकारी दी जाएगी ।

स्वच्छ भारत मिशन जालौन की प्रभारी रविंदर सलूजा ने समूह की महिलाओं को घर के बाहर कूड़ा ना डालने के लिए अनुरोध किया तथा गीला और सूखा कूड़े के अलग अलग निस्तारण करने को कहा जिससे गीले कूडे से खाद बनाई जा सके।
सहकार भारती के प्रदेश सह संयोजक सतीश सिंह सेंगर ने कहा समूहों को सामूहिक प्रयास से सफलता मिलेगी
अनुरागिनी संस्था के समन्वयक सत्यम मिश्रा ने महिलाओं को कोरोना संक्रमण के फैलाव को रोकने के लिए मास्क पहनने तथा सामाजिक दूरी का पालन करने के लिए जागरूक किया।
इस अवसर पर डूडा के सामुदायिक आयोजक योगेन्द्र सिंह यादव प्रशिक्षक राम किशोर जालौन ए एल एफ की अध्यक्ष महादेवी कुशवाहा बुंदेलखंड महापरिषद के बाला प्रसाद कुशवाहा सहित बजरंग बली गोपाल जी सेजल स्वयं सहायता समूह की तीस महिला प्रतिभागी उपस्थित थे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *